जीवन प्रबंधन

Jeevan Prabandhan

सेवा ऐसी हो कि सत्य भी बना रहे

अपने और परिवार के लिए तो सभी कमाते हैं, कुछ कमाई ऐसी भी होनी चाहिए जो सेवा के रूप में…

Read More »
Jeevan Prabandhan

निर्णय लेते समय दूरदर्शिता ज़रूर बनाए रखें

जो लोग घर में, परिवार में या किसी व्यवस्था में उम्र में बड़े हों, शीर्ष पद पर हों उन्हें निर्णय…

Read More »
Jeevan Prabandhan

जिसने मन को जीत लिया वही होगा विश्वजीत

‘मन के हारे हार है, मन के जीते जीत। ‘ इस साधारण सी कहावत का जन्म कई महत्वपूर्ण श्लोकों से…

Read More »
Jeevan Prabandhan

प्रशंसा में बोलें, आलोचना में मौन साधें

जीवन में कुछ लोगों से कुछ घटनाओं पर बोलना भी पड़ता है और मौन भी रखना पड़ता है। इस मामले…

Read More »
Jeevan Prabandhan

पूजा का रूप है बढ़े-बूढ़ों की सेवा

घर परिवार में बढ़े-बूढ़ों के रहने से एक अदृश्य शुभ शक्ति बनी रहती है। इस बात की अनुभूति अनेक लोगों…

Read More »
Jeevan Prabandhan

स्वाभाव में विनम्रता आने पर अहंकार के खतरे कम हो जाते हैं

प्रशंसा वह मदिरा है जो कानों से पिलाई जाती है। होटों से पी गई मदिरा से सिर्फ पैर लड़खड़ाते हैं…

Read More »
Jeevan Prabandhan

सुख की भी अपनी पीड़ा होती है और पीड़ा का भी सुख होता है

दुख कोई नहीं चाहता इसलिए सुख के पीछे हर कोई भागता है। दुख मिलता है तो पीड़ा होती है, लेकिन…

Read More »
Jeevan Prabandhan

ईश्वर के नियम को समझने के लिए आध्यात्मिक समझ जरुरी है

संसार में रहते हुए हम लोग राष्ट्र, समाज तथा परिवार की व्यवस्था बनाते हैं और फिर स्वयं इस सिस्टम को…

Read More »
Jeevan Prabandhan

शांति का अच्छा साधन है मौन

मौन के वृक्ष पर शांति के फल लगते हैं। परिवार में मौन शांति के साथ ही स्नेह व सम्मान की…

Read More »
Jeevan Prabandhan

परिवार बचाना हो तो प्रेम जरूर बचाएँ

एक सवाल उठता है कि परिवार क्यों अशांत हो जाता है। दरअसल, परिवार बनता है अनेक सदस्यों से। पति-पत्नी, पिता-पुत्र,…

Read More »
Back to top button
Close